Home समाचार उत्तर प्रदेश बोर्ड के टॉपर्स ने अपनी सफलता का श्रेय दिया माता-पिता...

उत्तर प्रदेश बोर्ड के टॉपर्स ने अपनी सफलता का श्रेय दिया माता-पिता और अध्यापकों को, एक ही गाँव के रहने वाले हैं दोनों टॉपर।

155
0

उत्तर प्रदेश बोर्ड के टॉपर्स ने अपनी सफलता का श्रेय दिया माता-पिता और अध्यापकों को, एक ही गाँव के रहने वाले हैं दोनों टॉपर: उत्तर प्रदेश में बोर्ड ने आज 10वी और 12वी कक्षा का परिणाम घोषित कर दिया हैं। इस बार कोरोना की वजह से परीक्षा का परिणाम घोषित करने में बहुत समय लग गया पर जाँच पूरी होने के प्रश्चात आखिरकार यूपी बोर्ड के परिणाम घोषित हो चुका हैं।

साल 2020 में करीब 52 लाख से अधिक छात्रो ने यूपी बोर्ड की परीक्षा दी थी। परीक्षा के बाद हर किसी को उसके परिणाम का ही इंतज़ार था जो अब घोषित हो चुका हैं। जिसमे हाईस्कूल में 83.31 विधार्थी पास हुए हैंऔर इंटरमीडियट में करीबन 74.63 छात्र पास हुए हैं। “CBSE जुलाई में जारी करेगा बोर्ड परीक्षाओ का रिज़ल्ट, कोरोना की वजह से रद्ध की गयी थी शेष परीक्षाए”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी छात्रो को बहुत बधाई दी हैं साथ ही टॉपर्स को भी उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए भी शाबाशी दी हैं। यूपी के दोनों टॉपर्स बड़ौत जिले के रहने वाले हैं। साथ ही वह एक ही स्कूल में पढ़ते हैं। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सभी कॉपी का मूल्याकन उनकी निगरानी में हुआ हैं। मूल्याकन के समय ऑनलाइन माध्यम से हर चीज़ पर बारीकी से नज़र रखी जा रही थी।

रिया जैन ने हाईस्कूल में 96.67% अंको के साथ किया टॉप-

हाईस्कूल टॉपर रिया जैन उत्तर प्रदेश के बड़ौत की रहने वाली हैं। उन्होने हाईस्कूल परीक्षा में करीबन 96.67% अंक प्राप्त किए हैं। और अपने गाँव का नाम ऊँचा किया हैं। रिया के पिता चुन्नी बनाने का कार्ये करते हैं। और वह बेटी के इस फैसले से बहुत ज्यादा खुश हैं। रिया ने बताया कि वह सुबह 4 बजे उठ कर रोज़ पढ़ाई करती थी। उनकी माता उनसे घर का कोई भी कार्ये नहीं करवाती थी। और शिक्षकों ने भी उनका पूर्ण रूप से सहयोग दिया हैं।

अनुराग मालिक ने इंटरमीडियट में 97% अंको के साथ किया टॉप-

इंटरमीडियट में बड़ौत गाँव के विधार्थी अनुराग मालिक ने 97% अंको के साथ टॉप किया हैं। अनुराग बिना किसी ट्यूशन के इतने अच्छे अंको के साथ पास हुआ हैं। उन्होने अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया हैं। अनुराग ने कहा कि वह रोज़ 18 घंटो तक पढ़ाई किया करते थे। उनके परिवार के सदस्यों ने उनका पढ्ने का पूरा टाइम-टेबल बनाया और उसी के अनुरूप उन्हे पढ़ाई कारवाई।

उन्होने हर विषय को पूरी बारीकी के साथ पढ़ा हैं। अनुराग मालिक के पिता की बड़ौत में इलैक्ट्रोनिक की दुकान हैं। वह अपने बेटे की इस सफलता से बहुत ज्यादा खुश हैं। अनुराग मालिक बड़े होकर आईएएस ऑफिसर बनना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here