Home समाचार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत बना अस्थायी सदस्य, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत बना अस्थायी सदस्य, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताई खुशी।

174
0

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत बना अस्थायी सदस्य, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताई खुशी: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने हाल ही में भारत को एक बहुत बड़ी अवधि दी हैं। भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक अस्थायी सदस्य चुन लिया गया हैं। जिसे पूरा देश खुश है। भारत आने वाले दो सालो के लिय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य रहेगा। इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खुशी जताई हैं। और कहा हैं कि भारत विश्व शांति बनाए रखने में बहुत से कार्ये करेगा।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बुधवार को एक मीटिंग हुई थी। जिसके अंतर्गत सभी देशो ने भारत को संयुक्त राष्ट्र का अस्थायी सदस्य बनाने के लिए वोट किया था। संयुक्त राष्ट्र में भारत को 192 में से 184 देशो ने वोट किया था। जिसके बाद भारत को अच्छे मतों से जीत प्राप्त हो गयी। आपको बता दे कि भारत करीबन 8वी बार संयुक्त राष्ट्र का सदस्य बना हैं।

क्या हैं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC)?

सयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद एक ऐसा संगठन हैं जो पूरे विश्व में शांति बनाए रखनेका प्रयतन करता हैं। यह संगठन पूरे विश्व में शांति बनाए रखता हैं और दुनिया का हर देश इसका सदस्य होता हैं। कुछ स्थायी तो कुछ अस्थायी। अभी इसके करीब पाँच स्थायी सदस्य हैं जिसमे चीन, फ़्रांस, रूस, ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के करीब 6 अंग होते हैं। जिसके हिस्साब से वह पूरे विश्व में कार्ये करता हैं।

  • महासभा।
  • सुरक्षा परिषद।
  • अंतरराष्ट्रीय न्यायलय।
  • सचिवालय।
  • आर्थिक और सामाजिक परिषद।
  • न्याय परिषद।

भारत की सफलता से चीन और पाकिस्तान हुए परेशान-

आपको बता दे कि भारत संयुक्त राष्ट्र संघ में स्थायी सदस्य बनने के लिए कई बार कोशिश कर चुका हैं। पर हर बार चीन की वजह से वह अपने इस लक्ष्य को पूरा नहीं कर पाया हैं। अगर भारत को एक स्थायी सदस्य बनना हैं तो इसके लिए उसे 5 स्थायी सदस्यो के वोट की आवश्यता होगी। पर चीन कभी भी भारत के पक्ष में वोट नहीं देता।

फिलहाल के लिए भारत संयुक्त राष्ट्र संघ में एक स्थायी सदस्य न बन पाया हो। पर 2 साल के लिए अस्थायी सदस्य तो बन ही चुका हैं। जिसके बाद से चीन और पाकिस्तान बहुत ज्यादा परेशान हैं। और उसे भारत की यह सफलता पच नहीं रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here