Home समाचार Shramik Special Trains: बिहार, यूपी और झारखंड में चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन:...

Shramik Special Trains: बिहार, यूपी और झारखंड में चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन: प्रवासी मज़दूर और छात्रो को होगा लाभ।

41
0

Shramik Special Trains: बिहार, यूपी और झारखंड में चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन: प्रवासी मज़दूर और छात्रो को होगा लाभ।: लॉकडाउन बढ़ने के साथ ही सभी राज्यों की सरकारो ने दूसरे राज्यों में फसे अपने लोगो को वापस लाने की तैयारी कर ली हैं। इसके लिए कुछ राज्य बसों को चलाने की सोच रहे हैं तो कुछ ट्रेनों को। और इससे ही संबधित कुछ ताज़ा जानकारी मिली हैं जिनके द्वारा प्रवासी मज़दूर और  दूसरे राज्यों में फसे हुए मज़दूरों को फ़ायदा मिलेगा।

लॉकडाउन में अगर सबसे ज़्यादा कोई तबका दिक्कत में हैं तो वो हैं प्रवासी मज़दूर। लॉकडाउन होने की वजह से उनका काम ठप पड गया हैं। और उनके पास खाने तथा पीने तक के लिए पैसे नहीं हैं। ऐसे में अलग अलग राज्य सरकारो ने केंद्र सरकार के समक्ष स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रस्ताव रखा जिससे दूसरे राज्यों में फसे छात्रो और प्रवासी मज़दूरों को उनके राज्य में वापस लाया जाएगा। केंद्र सरकार ने इस प्रस्ताव पर मंजूरी दे दी हैं। तथा प्रवासी मज़दूरों की मदद करने की सोची हैं।

तेलंगाना से झारखंड चली पहली श्रमिक स्पेशल ट्रेन”

केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद झारखंड सरकार ने इसकी पहल की और पहली ट्रेन तेलंगाना से झारखंड गयी जिसमे करीब 1200 मज़दूर सवार थे। वह मज़दूर हटिया के निवासी थे और ट्रेन होने की वजह से आसानी से अपने घर पहुच पाये। इसके बाद अन्य राज्यों में भी इसकी पहल हुई। और अपने राज्य के लोगो को लाने का कार्ये जल्द शुरू हो गया। ट्रेन से वापस लाने के प्रशचात इन सब प्रवासी मज़दूरों तथा छात्रो को क़्वारेनटाइन में रखा जाएगा। तथा मेडिकल जांच के प्रशचात अपने अपने घरो में भेज दिया जाएगा।

नोडल ऑफिसर द्वारा की जाएगी जाँच-

केंद्र सरकार ने हर राज्य को ये आदेश दिये हैं कि वो अपने राज्य की सीमा पर एक नोडेल ऑफिसर का चुनाव करे। जो ट्रेन में लाये गए लोगो की जाँच करेगा। साथ ही क़्वारेनटाइन सेंटर में उनका ध्यान अच्छी तरह से रखा जाए। इसकी भी पुष्टि करेगा। साथ ही जिन व्यक्तियों को राज्य से बाहर भेजना हैं उनकी एक सूची तैयार की जाएगी। जिसके द्वारा उनके रिकॉर्ड को देखा जाएगा। और उन्हे सकुशल उनके प्रदेश भेजा जाएगा। अगर किसी भी व्यक्ति में कोरोनावाइरस के लक्षण दिखते हैं तो नोडल ऑफिसर की ये ज़िम्मेदारी होगी कि वो उस व्यक्ति की कोरोना जाँच करवाए।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन” में होगा खाने पीने का इंतेजाम।

राज्य सरकारो ने ये निश्चित कर दिया हैं कि ट्रेन में लाये गए व्यक्तियों का खाने पीने का पूरा ध्यान रखा जाएगा। किसी भी मुसाफ़िर को अपने साथ खाने की चीज़े लाने की अनुमति नहीं हैं। आप जिस राज्य से प्रस्थान करेंगे वहा के नोडल ऑफिसर के द्वारा स्टेशन पर ही आपको भरपेट भोजन करवाया जाएगा। साथ ही अलग अलग कोच के हिसाब से आपको चार्ज भी देना पड़ेगा। स्लीपर कोच के लिए आपको 30 रूपये का शुल्क तथा 20 रूपये खाने के लिए देने होगे। इसके बाद ही आपको ट्रेन में सफर करने को कहा जाएगा।

तो अगर आप राज्यों द्वारा चलायी गयी “श्रमिक स्पेशल ट्रेन” में सफर करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको, जिस राज्य में आप रहते हैं वहा के नोडल ऑफिसर से संपर्क करना होगा। इसके प्रशचात ही आपको आपके प्रदेश में भेजे जाने की तैयारी शुरू ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here