Home समाचार भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी स्वदेशी...

भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी स्वदेशी चीज़े अपनाने की सलाह।

152
0

भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी स्वदेशी चीज़े अपनाने की सलाह: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मई 2020 को रात 8 बजे भारत के लोगो को संबोधित किया जिसमे उन्होने लॉकडाउन को बढ़ाने की बात कही। नरेंद्र मोदी ने कहा कि मरीज़ो की मरीज़ो की संख्या बढ्ने और लोगो की सुरक्षा के लिए लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला लिया गया हैं। और लॉकडाउन 0.4 कुछ नए नियमों के साथ लागू होगा जिसकी सूचना आप सब लोगो को 18 मई 2020 को दे दी जाएगी।

इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री मोदी ने लोगो से आत्मनिर्भर बनने की बात कही जिसमे लोगो को देश के प्रति ज्यादा झुकने को कहा गया। नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हमे अपने देश में बनी चीज़ों को अपनाना होगा। हमे विदेशी वस्तु का त्याग करके स्वदेशी चीज़ों की तरफ अपना योगदान देना होगा। जिसे भारत की अर्थव्यवस्था को फायदा हो और आप उसे आत्मनिर्भर बनाने में अपना योगदान दे पाये।

भारत में स्वदेशी वस्तुओ से ज्यादा विदेशी चीज़ों का ज्यादा उपयोग होता हैं। जिसे भारत में बनी चीज़ों को ज्यादा तवज्जो नहीं मिल पाती। साथ ही इसे भारत की अर्थव्यवस्था पर भी बहुत बुरा प्रभाव पडता हैं। तो अगर आप लॉकडाउन में भारत कि अर्थव्यवस्था को सुधारना चाहते हैं तो इसके लिए आपको भारत में बनी चीज़ों को खरीदने की जरूरत हैं।

यहा पर हम आपको भारत में लोकप्रिय कुछ विदेशी सामानो की लिस्ट देने जा रहे हैं जिनका उपयोग बंद करके आपको देश में बना सामान खरीदने की जरूरत हैं। और यह सामान आपके रोजमरा की ज़िंदगी के उपयोग का हैं।

भारत में मिलने वाला विदेशी सामान-  

  • कोल्ड ड्रिंक (पेप्सी, लिम्का, स्लाइस, फेंटा, कोक, मिरिंडा, 7अप, आदि।)
  • चाय पत्ती (रेड लेबल, ग्रीन लेबल, येल्लो लेबल, ब्रूकबॉन्ड, नैस्ले, नेस्कैफ़े।)
  • आइस-क्रीम (क्वालिटी वाल्स, कैडबरी, डॉल्फ़िन,बस्किन आदि।)
  • नमक (अनुपूर्णा, हिंदुस्तान यूनिलिवर, कैप्टन कूक, किसन, पिल्स्बेरी आदि।)
  • स्नैक्स (अंकल चिप्स, फ़न मंच आदि।)
  • बिस्कुट (लिप्टन, हॉर्लिक्स, बौर्न्वीटा, 5स्टार आदि।)
  • पानी (किंली, बैले, पुयोर लाइफ आदि।)
  • तेल (नैस्ले, यूएनआई, हिंदुस्तान युनिलीवर।)
  • टूथपेस्ट (कोलगेट, पेप्सूडेंट, क्लोज़-उप, ओरल-बी, ऐक्वाफ्रेश।)
  • साबुन (लक्स, क्लीनिक प्लस, लैक्मे, पॉंन्डस, जोहनसस बेबी, विवेल आदि।)
  • ऑनलाइन शॉपिंग वैबसाइट (ईबेय, जबोंग, अमज़ोन आदि।)
  • कार (मारुति सुज़ुकी, ह्युंडाई, फोर्ड, निस्सान आदि।)

भारत में बनने वाली स्वदेशी सामान 

  • कोल्ड ड्रिंक (रोज़ ड्रिंक, शर्बत, जलजीरा, दही, लस्सी, छाछ, जूस, नींबुपानी, नारियल पानी, रूहफ्ज़ा, रसना आदि।)
  • चाय पत्ती (टाटा, ब्रह्मपुत्र, असम, गिरनार आदि।)
  • आइस-क्रीम (अमूल आइस-क्रीम, कुल्फ़ी, वडीलाल, मिल्क आइस-क्रीम आदि।)
  • नमक (अंकुर नमक, टाटा नमक, आयरन-45, तेजा आदि।)
  • स्नैक्स (बिकानों, नमकीन, हल्दीराम, बिकाजी, होममेड चिप्स आदि।)
  • बिस्कुट (पार्ले, अमूल, इनड़ाना, कृमिका आदि।)
  • पानी (गंगा, हिमालयन, बिस्लेरी, रेल नीर आदि।)
  • तेल (परम घी, हैंडमेड घी, अमूल।)
  • टूथपेस्ट (अजंता, डॉ.स्टॉक, मोनाटे, रॉयल, आदि।)
  • साबुन (स्वातिक, पार्क एवेन्यू, गोदरेज, डाबर वाटिका, बजाज़, लैवेंडर आदि।)
  • ऑनलाइन शॉपिंग वैबसाइट (फ्लिपकार्ट, मिन्त्रा, बूक माइ शॉ, स्नेपडील आदि।)
  • कार (टाटा, महिंद्रा, हिंदुस्तान मोटर्स आदि।)

तो ये वो सारी रोज़मरा की विदेशी चीज़े हैं जिन्हे आप अपनी जरूरत के हिसाब से खरीदते हैं पर अब आपको भारतीय अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए लिए स्वदेशी चीज़ों का उपयोग करना आवश्यक हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भी स्वदेशी चीज़ों के उपयोग की बात कही हैं। और विदेशी सामान का बहिष्कार करने को कहा हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here