Home समाचार नेपाल ने अपने नागरिकता क़ानून में बदलाव करके दिया भारत को एक...

नेपाल ने अपने नागरिकता क़ानून में बदलाव करके दिया भारत को एक ओर झटका, अब भारतीय बहुओ को 7 साल बाद नागरिकता देगा नेपाल।

110
0

नेपाल ने अपने नागरिकता क़ानून में बदलाव करके दिया भारत को एक ओर झटका, अब भारतीय बहुओ को 7 साल बाद नागरिकता देगा नेपाल: भारत वैसे तो अपने सभी पड़ोसी देशों से अच्छे रिश्ते रखता हैं। पर अगर पड़ोसी ही अपनी हरकतों से बाज़ न आए तो भारत भी उसे अच्छा सबक सिखाता हैं। जैसा की आप सब लोग जानते है कि इन दिनों भारत और नेपाल के बीच संबंध खराब हो रहे हैं। एक तरफ जहा भारत नेपाल से बातचीत से हर मसले को सुलझाना चाहता हैं। वही दूसरी ओर नेपाल भारत के हिस्सो को हड़पने की तैयारी कर रहा हैं। और वो भी चीन के इशारो पर।

अब नेपाल के प्रधानमंत्री केपी औली शर्मा ने भारत को एक ओर झटका दिया हैं। नेपाल ने हाल ही में अपने नागरिकता क़ानून में कुछ बदलाव किए हैं। जिसके बाद यह निर्णय लिया गया हैं। कि अब नेपाल, भारत से आई बहुओ को 7 साल बाद ही नेपाल की नागरिकता देगा। जिसके बाद हर जगह नेपाल की आलोचना हो रही हैं। “भारतीय बाज़ारो में आई कोरोना वाइरस की पहली दवाई, जल्द ही शुरू किया जाएगा इलाज़”

नेपाल के गृह मंत्री राम बहादुर थापा ने संसद में कहा कि “यह निर्णय भारत के के अनुसार ही लिया गया हैं। भारत भी बाहर से आई गयी बहुओ को 7 साल बाद ही भारत की नागरिकता प्रदान करता हैं। और यह कोई नयी बात नहीं हैं।

आपको बता दे की भारत के नागरिकता क़ानून में भी विदेशी बहुओ को 7 साल बाद नागरिकता देने का प्रचलन हैं। पर यह नियम नेपाल के लिए लागू नहीं होता हैं। भारत को नेपाल के इस संशोधन से बहुत ज्यादा आपति थी। पर इसके बावजूद भी नेपाल ने भारत की बेटियो के खिलाफ यह नीयम पारित कर दिया हैं।

नेपाल, चीन के दबाव में आकर बहुत ही ज्यादा कूर होता जा रहा हैं। वह निरंतर भारत को नुकसान पहुचने की कोशिश करता हुआ नज़र आ रहा हैं। और जब सीमा पर बात नहीं बनी तो वह आम जनता को बीच में लेकर अपना डर पैदा करना चाहता हैं।

अभी तक भारतीय प्रधानमंत्री का इस मामले पर कोई भी बयान सामने नहीं आया हैं। पर बेशक नेपाल की इस कायराना हरकत को भारत बहुत अच्छे से समझ रहा हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here