Home समाचार कानपुर में 8 पुलिस वालों की हत्या करने वाला विकास दुबे किस...

कानपुर में 8 पुलिस वालों की हत्या करने वाला विकास दुबे किस तरह बना शातिर अपराधी, यहाँ देखे।

30
0

कानपुर में 8 पुलिस वालों की हत्या करने वाला विकास दुबे किस तरह बना शातिर अपराधी, यहाँ देखे: उत्तर प्रदेश के कानपुर में कुछ दिन पहले एक दिल दहला देने वाली घटना हुई थी। जिसके अंदर विकास दूबे नमक अपराधी ने उसको पकड़ने आए पुलिस बल पर गोली बारी कर दी थी। जिसमे करीबन 8 पुलिस वाले शहीद हो गए थे। पुलिस बल की हत्या करने के बाद विकास दुबे कानपुर से फ़रार हो गया था। जिसके बाद उत्तर प्रदेश की पुलिस उसे जगह जगह ढूंढ रही हैं। कानपुर की इस घटना के बाद पूरा देश में विकास दुबे के खिलाफ भारी आक्रोश हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस ने पूरी तहकीकात भी शुरू कर दी हैं। और हर दिन कानपुर पुलिस हत्याकांड में कई नए खुलासे हो रहे हैं।

कौन हैं विकास दुबे?

विकास दुबे का जन्म 26 दिसम्बर 1964 कानपुर देहात में हुआ था। विकास दुबे ने 1990 के दशक से अपराध की दुनिया में कदम रख लिया था। पहले विकास दुबे चोटी-मोती आपराधिक घटनाओ को अंजाम देता था। और धीरे धीरे उसने अपराध की पूरी दुनिया में अपना महतमा स्थापित कर लिया था। छोटी-मोटी चोरी और लुटपाट के बाद विकास दुबे कई हत्याओ को भी अंजाम देना शुरू कर दिया जिसके बाद लोगो के बीच विकास दुबे का खौफ़ रंग लाने लगा। विकास दुबे ने राजनीति के कई नेताओ से अपनी पहचान बनाई जिसके बाद उत्तर प्रदेश में उसका दबदबा बढ़ता चला गया।

2 जुलाई 2020 को उत्तर प्रदेश में 8 पुलिसकर्मी की हत्या-

2 जुलाई 2020 को विकास दुबे ने कपूर में पुलिस बल के साथ खूनी खेल खेला। जिसके अंदर विकास दुबे को पकड़ने गयी पुलिस के उपर विकास के गंग ने अंधाधुन गोली बरसाना शुरू कर दिया। जिसके अंदर उत्तर प्रदेश पुलिस के 8 लोग शहीद हो गए। हर जगह इस घटना से हड़कंप मच गया। जिसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस को विकास दुबे को ज़िंदा या मुर्दा पकड़ने का आदेश दिया।

Sarla Devi

विकास दुबे के सभी घरो को गिराया गया-

इसके बाद से ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने विकास दुबे की धरपकड़ शुरू कर दी हैं।पर वह अभी तक फरार चल रहा हैं। पुलिस ने विकास दुबे के सभी घरो को JCB मशीन के द्वारा गिरा दिया। और उसके गुर्गों तक पहुचने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही हैं।

विकास दुबे पर 2.5 लाख का इनाम-

उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब जगह जगह विकास दुबे के पोस्टर लगा दिये हैं। और जो भी व्यक्ति विकास दुबे का पता बताएगा। उसको सरकार की तरफ से 2.5 लाख धनराशि दी जाएगी। साथ ही उसकी पहचान भी गुप्त रखी जाएगी।

2001 में ताराचंद इंटर कॉलेज कानपुर के असिस्टेंट मैनेजर की हत्या-

साल 2001 में विकास दुबे ने कानपुर के ताराचंद इंटर कॉलेज के असिस्टेंट मैनेजर सिद्देश्वर पांडे की हत्या कर दी थी। जिसके बाद विकास दुबे का खौफ़नाक चेहरा सबके सामने आ गया था। ज़्ब विकास दुबे जैल में सज़ा काट रहा था तो उसके जैल में बैठे बैठे रामबाबू यदाक नमक व्यक्ति की हत्या कारवाई थी। और अपने खौफ़ को जनता के बीच जारी रखा था।

2001 में बीजेपी नेता संतोष शुक्ला की हत्या-

विकास दुबे के अंदर डर और प्लिके बल का बिलकुल भी खोफ नहीं था। साल 2001 में विकास दुबे ने पुलिस थाने के अंदर घुस कर बीजेपी के मंत्री संतोष शुक्ला की हत्या कर दी थी। और इसी झड़प में दो पुलिस कांस्टेबल भी शहीद हो गए थे। इस पूरे मामले में विकास दुबे को कोई भी सज़ा नहीं हुई क्योकि हर कोई उसे डरने लगा था। इसलिए किसी भी पुलिस बल ने उसके खिलाफ़ गवाही नहीं दी।

2004 में केबल व्यवसायी दिनेश दुबे की हत्या-

विकास दुबे जुर्म की दुनिया का एक खौफ़नाक नाम बंता चला जा रहा था। साल 2004 में सविकास ने दिनेश दूबे नमक व्यक्ति की हत्या कर दी थी। यह मामला आपसी रंजिश का था। विकास दुबे ने अपने कई रिश्तेदारों के दुश्मनों की हत्या भी की थी। और अगर कोई भी व्यक्ति उसके खिलाफ़ आवाज़ उठता था। तो वह उसके पूरे परिवार को ख़त्म करवा देता था।

कई बड़े राजनीतिक नेताओ से थे संबध-

विकास दुबे ने कई बड़ी आपराधिक घटनाओ को अंजाम दिया था। पर किसी भी व्यक्ति के अनादर उसे पकड़ने की हिम्मत नहीं होती थी। साथ ही उत्तर प्रदेश में जिस भी पार्टी की सरकार होती थी। उसके सभी से बहुत गहरे संबंध होते थे। जब विकास दुबे उत्तर प्रदेश में आपराधिक घटनाओ को अंजाम दे रहा था। तब वह बसपा और राजदा पार्टी की सरकार थी। और विकास दुबे मायावती और अखिलेश यादव की सरकार में बहुत फलफूल रहा था।

अब देखना यह हैं कि उत्तर प्रदेश पुलिस कब तक विकास दुबे को पकड़ती हैं। सूत्रो के हवाले से यह भी खबर आ रही हैं कि विकास दुबे कोर्ट में आकर सरैंडर कर सकता हैं। इसके लिए सभी कोर्ट की सुरक्षा बड़ा दी गयी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here